सच्चा राही उन्नीसवें वर्ष में

दादा आदम अलैहि0 और इब्लीसे लईन
January 11, 2020

अल्हमदुलिल्लाह सच्चा राही ने अट्ठारह वर्ष पूरे कर लिए और इस अंक पर उन्नीसवें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। अट्ठारह वर्षों की इसकी सेवाएं कैसी रहीं इस का निर्णय पाठकों के हाथ में है वैसे हम पाठकों के परामर्श माँगते रहे हैं और पाते रहे हैं, हम चाहते हैं कि ‘‘सच्चा राही’’ ने अपने इदारे के बुज़ुर्गों जैसे जनाब मौलाना सय्यद मुहम्मद राबे हसनी नदवी साहब नाज़िम नदवतुल उलमा, जनाब मौलाना डाॅक्टर सईदुर्रहमान आज़मी नदवी साहब, मोहतमिम दारुल उलूम और जनाब मौलाना सय्यद मुहम्मद हमज़ा हसनी नदवी साहब नायब नाज़िम नदवतुल उलमा आदि के लेख सच्चा राही में प्रकाशित करें परन्तु ये हज़रात हिन्दी में नहीं लिखते अलबत्ता इनके और दूसरे उलमा के लेख उर्दू में तामीर हयात में आते हैं हम तामीर हयात से इन लेखों को ज्यूँ के त्यूँ हिन्दी लिपि में लिखवा कर सच्चा राही में प्रकाशित करते हैं, वैसे हमारे सहायक सम्पादक जनाब मौलाना सय्यद मुहम्मद ग़ुफरान नदवी साहब भी कुछ न कुछ लिखते रहते हैं इस वक़्त वो ख़िलाफते राशिदा पर लिख रहे हैं। जनाब मौलाना जमाल अहमद नदवी साहब जो सच्चा राही की प्रूफ रीडिंग करते हैं वह जनाब मौलाना बिलाल हसनी नदवी साहब की तफ़सीर से सच्चा राही के लिए कुछ भाग शीर्षक ‘‘र्कुआन की शिक्षा’’ हर महीने प्रस्तुत करते हैं और प्यारे नबी की प्यारी बातें लिखते हैं, आपके प्रश्नों के उत्तर जनाब मौलाना मुफ़्ती मुहम्मद ज़फर अ़ालम नदवी साहब के होते हैं परन्तु हिन्दी क़लम जनाब हुसैन अहमद साहब का होता है। जनाब क़मरुज़्ज़मा साहब पर्चे की कम्पोज़िंग करते हैं। जनाब मौलाना नियाज़ अहमद साहब की तवज्जो से पर्चा वक़्त पर छपता है और जनाब मुबीनुद्दीन नदवी साहब, जनाब मंजर सुबहानी और अ़ज़ीज़म अरशद के प्रयासों से पर्चा वक़्त पर पोस्ट हो जाता है। हम इन तमाम हज़रात का शुक्रिया अदा करते हैं उनके लिए दुआएं करते हैं और उनसे दुअ़ाएं चाहते हैं। जनाब मौलाना सय्यद मुहम्मद ह़मज़ा हसनी नदवी साहब नाइब नाज़िम नदवतुल उलमा और जनाब हज़रत नाज़िम साहब नदवतुल उलमा की तवज्जो और दुआओं से पर्चा बराबर प्रकाशित हो रहा है और इन्शाअल्लाह प्रकाशित होता रहेगा। पाठकों की जानकारी के लिए ये सब बातें लिख दीं।
प्रिय पाठको! आप लोगों में से जो सज्जन हिन्दी में लेख लिखने की योग्यता रखते हैं वह सच्चा राही के लिए अवश्य लिखें ये सवाब का काम है। विशेष कर विज्ञान के छात्रों से अनुरोध है कि वह सच्चा राही के लिए विज्ञान की बातें अवश्य लिखें उनके लिए बहुत से शीर्षक हैं ‘‘जैसे मधुमक्किखयों का प्रबन्ध’’ चीटियों का जीवन’’ पक्षी जगत आदि।